कलम...

{ "हम विलुप्त हो चुकी "आदमी" नाम की प्रजातियाँ हैं" / "हम कहाँ मुर्दा हुए हमें पता नहीं".....!!! }

36 Posts

17478 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 7734 postid : 261

"दर्द की पैदावार"

Posted On: 9 Jul, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बंजर दिल की  खाई में इक ऐसी जगह है ,

जँहा बची उपजाऊ जमीन पर मुर्दा दर्द फिर से उगता है !

जँहा जख्मों  की लाशो के  लाखो पेड़ अब तक ज़िंदा हैं ,

जँहा कान लगाकर  बहरा जिस्म फिर से सुनता है

***


रोज खुदता-खुलता  है जिस्म वंहा भ्रूण ह्त्या की कुदालो से,

वासना की घिनोनी डकैती अक्ल में काला छुरा घोंपता है,

वंहा दिल खुद पालता है दर्द के बगीचे कुकिस्मों के ,

वंहा कब्रों में बगावत का चन्दन उगता है !


***


जँहा दर्द उघाड़ता है दिल पर मढ़ी अंधेपन की परत,

और हर शिखंडी रोंगटे से तमाचा मार के पूछता है !

पूछता है गिरेबान पकड़ मासूमों की तस्करी-मजदूरी को,

बूढ़े माँ-बाप के त्यजने को बेटन से पीट-पीट पूछता है !


***


वंहा दर्द की पैदावार की कोई जात नहीं ,

वो हर मजहब-रंग के आंसू से खुल के गले मिलता है !

जँहा जीभकटा दर्द गूंगा बना नहीं रहता,

जो मुझे मर जाने या कर जाने के लिए कहता है !


***


जँहा दर्द पेट भरने को खुराक नहीं खाता,

बस पीता है बेबसी और बेइज्जती का नरक !

जँहा दर्द निकल पड़ा है कफ़न बांधे, पर शायद अभी गफलत है ,

जो कर रहा है अभी इन्सान और हैवान  का फरक !


–*****************—

*****************



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

714 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran