कलम...

{ "हम विलुप्त हो चुकी "आदमी" नाम की प्रजातियाँ हैं" / "हम कहाँ मुर्दा हुए हमें पता नहीं".....!!! }

36 Posts

17478 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 7734 postid : 79

मेरे लहू का कतरा-कतरा तिरंगा

Posted On: 17 Mar, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मेरे लहू का कतरा-कतरा तिरंगा


तुम्हारे खून का रंग पानी,

तुम्हे क्या ख़ाक आई जवानी,

मेरे लहू का कतरा-कतरा तिरंगा,

तन हिंदुस्तान, जिगर हिन्दुस्तानी !

**********

तुम्हारे सोने के महल काले,

बंद तिजोरियों मे चीखें,सिसकियाँ,लाश,घोटाले,

वतनपरस्ती से लीपी हमारी बस्तियां,देशभक्त हीरा,

खुला खजाना देशप्रेम, बाँट रहे हम मतवाले !

**********

तुम्हारे सूखे खोखले दिलो-जिस्म बंजर,

तुमने सीखा छीनना, रोटी,जमीं,मुंह के निवाले,

हमारी सांस, रूह, अंग, अंश-अंश भारत,

हमने एक रोटी से हज़ार पेट पाले !

*********

तुम्हारी महफ़िलों का मौसम रुपइया,

काली आत्मा, काली जमीर, काली ईमान

यँहा अपनी मौत भी बसंती,

सीना भारत गौरव, सर भारत स्वाभिमान !

*********

तुम्हारी रसोई बूचड़खाना,

रोज हलाल आम आदमी,

तुम्हारी थालियों मे भूनी मजबूर प्रजा,

जबड़ो मे गरीबगोश्त, तुम्हारी भूख अधर्मी  !

************

संभल गद्दार, मातृभूमि कोख का सौदा करने वाले,

किसी गंगा तट पर नहीं धुलते पाप देशद्रोह वाले,

तडपते है मरकर भी, भटकते हैं भूत बनकर,

देते नहीं बसर उसे, नभ धरा लोक परलोक वाले !

***********

I am proud to be an Indian.

Chandan Rai



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

64 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Ritesh Chaudhary के द्वारा
April 13, 2012

बहुत खूब सुन्दर प्रस्तुति

gopalkdas के द्वारा
April 6, 2012

wah, achhi rachna hain..!

    चन्दन राय के द्वारा
    April 7, 2012

    गोपाल दास जी , आपका समर्थन मूल्यवान है , धन्यवाद

Roshan Dhar Dubey के द्वारा
April 6, 2012

एक सच्चे देश्भक्त कि सटिक परिभाषा को सम्बोधित करती हुई सराहनीय कविता..! शुक्रिया ..!

    चन्दन राय के द्वारा
    April 6, 2012

    ROSHAN DHAR DUBEY JI, आपका मेरे मंच पर स्वागत है मित्र , हमे गर्व है अपने भारतीय होने पर , कृपा त्रुतिओं से सम्बंधित आपके पास कोई सुझाव हो तो निसंकोच कह दे

anandvishvas के द्वारा
April 1, 2012

क्रोध और आक्रोश  स्वाभाविक  ही है।  सब कुछ  न तो सहा जाता है  और न आँखों से देखा जा सकता है।  अच्छी रचना ।  आनन्द  विश्वास 

    चन्दन राय के द्वारा
    April 1, 2012

    Dear Sir, It is said if you want to be succesful , get blessings from your elders, so pls. keep pouring ur blessings

hindiabhiyan के द्वारा
March 31, 2012

अच्छी सोंच है, पर कुछ और अच्छा हो सकता था. शब्दों का चयन सही करे.

    चन्दन राय के द्वारा
    March 31, 2012

    Dear hindiabhiyan, Thank you for your sweet suggestion, Pls. keep suggesting

मनु (tosi) के द्वारा
March 24, 2012

चन्दन जी बहुत बढ़िया … बहुत अच्छी रचना देश-प्रेम से ओत -प्रोत। बधाई नव संवत्सर व नवरात्रि की हार्दिक बधाइयाँ

    chandanrai के द्वारा
    March 29, 2012

    Dear Manu ji, May god blessed you with his blessings & once again thanks for your thoughts

omdikshit के द्वारा
March 23, 2012

चन्दन जी, नमस्कार. झाँसी की रानी की असली फोटो ,पहली बार ,आप ने दिखाया.साथ ही,श.भगत सिंह की फोटो भी ,आप की पंक्तियों में निहित देश-प्रेम के उत्साह को और बढ़ाने में सहयोग कर रही हैं.बहुत अच्छी रचना.

    कीर्ति कुमार गौतम के द्वारा
    March 26, 2012

    मित्रों झाँसी की रानी की तस्वीर असली नहीं है …………

    chandanrai के द्वारा
    March 29, 2012

    Dear Dixit ji, We all are indian, greatness of our country is that even God have to take human avtaar to come on india. Pls. keep suggesting

sombir singh saroya के द्वारा
March 20, 2012

तुम्हारे खून का रंग पानी, तुम्हे क्या ख़ाक आई जवानी, देश भक्ति भावना से भरी एक सुंदर और सजीव कविता लिखी है आपने धन्यवाद

    chandanrai के द्वारा
    March 22, 2012

    Thank you for your sweet comment . Yur are mosr welcome. Pls. keep commenting & suggesting

Alka Gupta के द्वारा
March 20, 2012

ओजपूर्ण अति प्रशंसनीय सचित्र काव्य रचना…….देश के प्रति ज़ज्बे को अति सम्मान देती हूँ चन्दन राय जी….शुभकामनाएं !

    chandanrai के द्वारा
    March 20, 2012

    Dear respected Alka ji, There will be not a single person in India who can says that he is not have proud of being an indian, Your thoughts are always encouraged me, Pls. keep suggesting

satish3840 के द्वारा
March 19, 2012

चन्दन राय जी नमस्कार / कमाल का कलेक्शन , कमाल की प्रस्तुती / आँखें खोल दी आपने / ऐसी प्रस्तुतिकरण के लिए आपको व् जागरण जंक्सन दोनों को धन्यवाद /

    chandanrai के द्वारा
    March 20, 2012

    Dear Satish Sir, We all are indian, greatness of our country is that even God have to take human avtaar to come on india. Pls. keep suggesting

jalaluddinkhan के द्वारा
March 19, 2012

आपका प्रयास सुन्दर ,सराहनीय और संग्रहणीय है.आपने अपनी रचना में न सिर्फ सच्चाई बयान किया है,बल्कि देश के प्रति अपराध करने वालों को धिक्कारा भी है.आशा है कि देश और समाज के प्रति अपने कर्तव्यों से विमुख लोग इससे कुछ सबक हासिल करेंगे.

    chandanrai के द्वारा
    March 20, 2012

    Dear jalaluddin khan sahab, Your most welcome, it is just the proudness of being an indian, we are nothing & can never match up to our freedom fighter, But we can fight. Pls. keep suggesting

अरुण कान्त शुक्ला "आदित्य" के द्वारा
March 19, 2012

खूबसूरत .

    chandanrai के द्वारा
    March 20, 2012

    Dear arun kant shukla “aditya” ji, Your most welcome, Pls. keep suggesting

panditsameerkhan के द्वारा
March 19, 2012

प्रत्येक शेर सच्चे देशभक्त के ह्रदय उदगार प्रकट कर रहा है…..बहुत खूब.

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear Pandit Sameer khan ji , Thank you for your sweet comment . Yur are mosr welcome. Pls. keep commenting & suggesting

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Than k you Pandit ji , for giving you precious time & thoughtful comments

Bhupesh Kumar Rai के द्वारा
March 19, 2012

ओजपूर्ण शब्दों एवं सच्चे देशभक्तों के चित्रों से सुसज्जित एक शानदार रचना के लिए बधाई.

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear Rai ji, Ye poem ya geet Bhar nahi hai, Ye to mere desh ke liye mera jajba hai jo mere dil mai nahi lahoo mai bahta hai , Pls. keep suggesting

akraktale के द्वारा
March 18, 2012

चन्दन जी, बहुत सुन्दर दिल में देश भक्ति की ज्वाला को और प्रचंड करती रचना. बधाई.

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear Sir, we all had to get together to change the system, Thank you for your appreciation, pls. keep suggesting

chaatak के द्वारा
March 18, 2012

भाई चन्दन जी, सादर अभिवादन, राष्ट्रवाद के इस नाद में एक स्वर मेरा भी मिला लीजिये| अच्छी रचना पर हार्दिक बधाई!

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear chatak ji, We need yuva brigade to change the corruption . Yur support & voice is more valuable. Pls. keep suggesting

jagobhaijago के द्वारा
March 18, 2012

भाई चन्दनजी, ओजपूर्ण काव्य लेखन के साथ-साथ सटीक चित्रांकन  …बहुत ही सराहनीय प्रयास 

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear jago ji, Thank you for your sweet comment . Yur are mosr welcome. Pls. keep commenting

mataprasad के द्वारा
March 18, 2012

सादर नमस्कार! आप का तस्वीरों का चयन अदुतीय है । साथ ही आप की पंक्तियो का क्या कहना किसी देश में क्रांति की पहली सीढ़ी वहां के लेखक, साहित्यकार,कवि ही होते है। जो अपनी रचनाओ से लोगो के अन्दर एक उत्साह का संचार कर देते है ।

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear Prasad ji, Your comments are encouraging. thank u from bottom of my heart. You are most welcome. pls. keep suggesting & commenting

    smtpushpapandey के द्वारा
    March 19, 2012

    dear author chandan rai this is very grateful poem

yamunapathak के द्वारा
March 18, 2012

wah!new andaaz nice one

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    Dear Yamuna ji , Thank you for your appreciations Pls. keep commenting

sombirsaroya के द्वारा
March 18, 2012

देश भक्ति की भावना से ओत प्रोत एक उतम या यु कहिये की अति उत्तम रचना

    chandanrai के द्वारा
    March 19, 2012

    dAER SOMBHI JI. Thank you for your sweet comment . Yur are mosr welcome. Pls. keep commenting

dineshaastik के द्वारा
March 18, 2012

आपकी कविता में देश भक्ति की महक आ रही है यहाँ तक, क्राँति के लिये तैयार रहिये, और हम सहेंगे कहाँ तक।

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear Dinesh sir, Thank you for showing love for our country, Pls. keep commenting

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
March 17, 2012

गर्व से कहिये हम हिन्दुस्तानी हैं | अच्छी रचना | बधाई !!

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear Acharya ji, thank you to feel the proud of being a indian , PLs. keep encouraging

D33P के द्वारा
March 17, 2012

सुन्दर अभिव्यक्ति ,आपके हर्दय में बसा देश प्रेम सहज ही उजागर हो रहा है .,हम भारतवासी है हमें इस पर गर्व है

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear Dipti ji, Thank you for feeling the love for our country, We are , because of our country. pls. keep encouraging

jlsingh के द्वारा
March 17, 2012

अति सुन्दर! चन्दन जी. चन्दन जितना घिसा जाय उतनी अच्छी खुशबू आती है!

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear JL singh ji, Ye to mere desh ki khushboo hai , kisi chandan mai aisi khushboo kanha , pls. keep encouraging

March 17, 2012

सादर नमस्कार! सराहनीय कदम…………तस्वीरों का चयन, बहुत अच्छा लगा. आपकी इस म्हणत और देशभक्ति के जज्बे के लिए ५ स्टार.

    RAJEEV KUMAR JHA के द्वारा
    March 17, 2012

    बहुत सुन्दर कविता,चन्दन जी.झांसी की रानी का यह चित्र तो कभी देखा न था.

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear Anil ji, Ye poem ya geet Bhar nahi hai, Ye to mere desh ke liye mera jajba hai jo mere dil mai nahi lahoo mai bahta hai , Pls. keep suggesting

Subhash Wadhwa के द्वारा
March 17, 2012

प्रिय चन्दन राय अच्छा प्रयास , लेकिन अब शहीदों को नहीं वोटो की मशीन को याद किया जा रहा है भुला दी रानी झाँसी और भगत सिंह की क़ुरबानी वीर शिवाजी सुभाष और चन्द्र शेखर बन कर रह गए कहानी शास्त्री जी और गोखले जी को नहीं देता अब सलामी अब केवल महात्मा गाँधी की हस्ती है जानी पहचानी क्योंकि उनके नाम से कांग्रेस को वोट है पानी , सुभाष wadhwa

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear subhash ji , Bharat mere gyan ka sabse mahan shabd janha aakar har shabd chota ho jata hai . Pls. keep suggesting

ashish के द्वारा
March 17, 2012

बहुत ही रोचक और ज्ञान वर्धक रचना,,,,,, मुझे आज पहली बार झाँसी की रानी की असली तस्वीर देखने को मिली,,, इसके लिए आपको धन्यवाद्.

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear Ashish ji , kuch jagai na jagia desh prem ki lou jala kar rakhiyega, Pls. keep commenting

ajaydubeydeoria के द्वारा
March 17, 2012

क्रन्तिकारी रचना……..

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear Thank you for feeling the proud of an indian Pls. keep suggesting

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
March 17, 2012

मेरा दिल हिदुस्तानी. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. स्नेही राय जी. शुभाशीष . जय हिंद.

    chandanrai के द्वारा
    March 18, 2012

    Dear kushwaha ji, we have to take responsibility to change our self to change in our country. Pls. keep suggesting

chandanrai के द्वारा
March 18, 2012

Dear Rajeev ji, Yah kavita bhar nahi mera bharat prem hai jo badhta hi jata hai kabhi khatm nahi hota

chandanrai के द्वारा
March 19, 2012

Respected smtpushpapandey, i am humbled you have read my poem & giving it your precious comments. once again your most welcome Pls. keep suggesting

chandanrai के द्वारा
March 29, 2012

dEAR kirti ji, This is real picture , may be you have not seen another old images of Rani laxmi


topic of the week



latest from jagran